विभाग
संस्कृत विभाग

विभाग का संक्षिप्त परिचय :

संस्कृत विभाग उन आरंभिक विभागों में से है जिसके साथ त्रिपुरा में कलकत्ता विश्वविद्यालय के अंतर्गत स्नातकोत्तर अध्ययन केंद्र वर्ष 1977 में प्रारम्भ हुआ था। राजतांत्रिक त्रिपुरा में संस्कृत साहित्य का संवर्धन प्रारम्भकाल से ही अपने चरम पर था। आधुनिक शिक्षा के आगमन के साथ, संस्कृत को महाविद्यालयों में स्नातक स्तर पर भी पढ़ाया जाने लगा। विभाग ने वर्ष 1977 में विभागाध्यक्ष प्रोफ़ेसर बिस्वपति रॉय के तत्वावधान में संस्कृत का अध्यापन प्रारंभ कर दिया। धीरे-धीरे पहले प्रोफेसर सीतानाथ डे और फिर प्रोफ़ेसर के. पी. सिन्हा ने विभाग को अपने नेतृत्व में आगे बढ़ाया। 2 अक्टूबर 1987 को त्रिपुरा विश्वविद्यालय के पूर्ण रूपेण अस्तित्व में आने के साथ ही प्रोफ़ेसर ज्योतिष नाथ ,प्रोफ़ेसर शीला पुरकायस्थ ,डॉक्टर शिप्रा रॉय तथा तत्पश्चात डॉक्टर चंदर कुमार चक्रबर्ती विभाग के सदस्य के रूप में सम्मिलित हुए। अनेक अतिथि व्याख्याताओं ने भी विभाग को लंबे समय तक अपनी सेवाएं दी हैं। 60 छात्रों की प्रवेश क्षमता के साथ विभाग संस्कृत में स्नातकोत्तर पाठ्क्रम संचालित करता है जिसमें वेद, काव्य और दर्शन विशेष पत्रों के रूप में सम्मिलित हैं। कई प्रसिद्ध विद्वानों ने विभाग का निरीक्षण किया है और उनमें से कई ने यहाँ शैक्षणिक व्याख्यान भी दिए हैं। प्रोफ़ेसर रामरंजन मुखर्जी, प्रोफ़ेसर ध्यानेश नारायण चक्रबर्ती, प्रोफ़ेसर अशोक चटर्जी, प्रोफ़ेसर करुणासिंधु दास, प्रोफ़ेसर नबनारायण बंदोपाध्याय, प्रोफ़ेसर जी. एस. त्रिपाठी, प्रोफ़ेसर दीप्ति एस. त्रिपाठी आदि इनमें शामिल हैं।

शोध सुविधाएँ :

परास्नातक के पश्चात् विभाग में पूर्णकालिक छात्रों के लिए पूर्ण छात्रवृत्ति सहित शोध सुविधाएँ उपलब्ध हैं |

परीक्षाएं :

एम.ए. (4 सत्रों में द्विवर्षीय कार्यक्रम )
पीएच.डी. कार्यक्रम के लिए अनुसंधान पात्रता परीक्षा (आरईटी)
पीएच.डी. कोर्सवर्क - (1 सेमेस्टर)
अ.जा./अ.ज.जा. के छात्र त्रिपुरा विश्वविद्यालय के नेट कोचिंग केंद्र द्वारा आयोजित सुधार हेतु
मुफ़्त विशेष कोचिंग कक्षाओं का लाभ उठा सकते हैं । प्रतिवर्ष अनेक अ.जा./अ.ज.जा. व
अल्पसंख्यक विद्यार्थी स्नातकोत्तर अध्ययन हेतु संस्कृत का चुनाव करते हैं |

स्थापना वर्ष :

1977

विभागाध्यक्ष :

डॉ. चंदन कुमार चक्रबर्ती

उप्लब्ध पाठ्यक्रम :

एम.ए. (4 सत्रों में द्विवर्षीय कार्यक्रम); पीएच.डी. पाठ्यक्रम कार्य (1 सत्र); पीएच.डी

प्रवेश क्षमता :

60

कुल नेट पात्रता प्राप्त छात्र :

2

पीएच. डी. उपाधि प्रदत्त कुल छात्र :

11

कुल शोध परियोजना अनुदान(पूर्ण एवं जारी) :

कोई नहीं

विभिन्न कार्यक्रमों का पाठ्यक्रम :

संगोष्ठी/सम्मलेन/पुनश्चर्या/अभिमुखीकरण आदि आयोजित :

  • ‘निम्बार्क दर्शन एवं विश्वशांति’ पर वर्ष 2005 में आयोजित अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में सहभागिता
  • वर्ष 2006 में त्रिपुरा विश्वविद्यालय के बांग्ला, अंग्रेजी एवं दर्शनशास्त्र विभाग के साथ मिलकर ‘साहित्य एवं दर्शन’ पर राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित
  • राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान, नई दिल्ली के साथ मिलकर त्रिपुरा में वर्ष 2009 में संस्कृत नाट्योत्सव का आयोजन

संपर्क हेतु पता :

संस्कृत विभाग, त्रिपुरा विश्वविद्यालय, सूर्यमणिनगर, त्रिपुरा (पश्चिम),
पिन-799022
ई-मेल : hod_sanskrit[@]tripurauniv.in

अन्य सूचनाएं (यदि हैं, तो) :

शैक्षणिक गतिविधियों के अतिरिक्त विभाग विश्वविद्यालय की अन्य सह-पाठ्यक्रम संबंधी गतिविधियों को प्रोत्साहित करता है और उनमें भाग लेता है, यथा - खेलकूद, वाद-विवाद, साहित्यिक गतिविधियां और अन्य सामाजिक-मनोरंजक गतिविधियां।

पीएच.डी. स्कॉलर्स

चित्रनामविषयसंपर्क विवरण
प्रियांकु चक्रबर्ती द सूर्य पुराण – अ क्रिटिकल स्टडी दूरभाष सं :+91-9612119062
ई-मेल : This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
अनिंदिता अधिकारी लॉर्ड हयग्रीव इन संस्कृत लिट्रेचर दूरभाष सं :+91-9612451838
ई-मेल : This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
प्रियंका साहा द सेंस ऑफ गिल्ट एज कंटेंड इन रिग्वेदिक प्रेयर्स फॉर डेलिवर्रेंस फ्रॉम सिन्स दूरभाष सं :+91-9436950744
ई-मेल : This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
श्रीमती पॉलॉमी मजूमदार एडिटिंग एंड स्टडी ऑफ सितिकांत – भिबोधन ऑफ राजानक आनंदकवि – एन अन पब्लिश्ड कमेंट्री ऑन काव्यप्रकाश (9-10 उल्लसा) दूरभाष सं :+91-9774436080
ई-मेल : This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
अपर्णा नाथ स्पाई सिस्टम एज इल्स्ट्रेटेड इन द इंडियन स्क्रिप्चर्स एंड इट्स इंपैक्ट ऑन प्रजेंट डे : अ स्टडी (विद स्पेशल रिफ्रेंस टू मनुस्मृति, याज्ञवल्क्य स्मृति एंड अर्थशास्त्र) (पंजीकरण प्रतीक्षित) दूरभाष सं :+91-9862620610, +91-7308945500
ई-मेल : This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
सुस्मिता देबनाथ द रुकमिनी एपिसोड इन एपिक एंड महापुरानाज दूरभाष सं :+91-9863930197
ई-मेल : This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

स्टाफ सदस्य

चित्रनामपदसंपर्क विवरण
किशोर देबनाथ डीआरडब्ल्यू दूरभाष सं : +91-9862395955
© त्रिपुरा विश्वविद्यालय                                                                                                                                                      रूपांकन : वाया विटे सॉल्यूशनस