विभाग
रबर प्रौद्योगिकी

विभाग का परिचय :

रबर प्रौद्योगिकी में बी. वोक. पाठ्यक्रम वर्ष 2015 में प्रारंभ हुआ। यह स्नातक डिग्री के समतुल्य पाठ्यक्रम है। पाठ्यक्रम विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) से अनुमोदित है तथा इसका रूपांकन राष्ट्रीय दक्षता विकास निगम (एनएसडीसी) तथा रबर दक्षता विकास परिषद् (आरएसडीसी), नई दिल्ली के सहयोग से किया गया है। रबर प्रौद्योगिकी पाठ्यक्रम का रूपांकन रबर प्रौद्योगिकी कला से जुड़े छात्रों को प्रशिक्षित करना है। पाठ्यक्रम में रबर प्रौद्योगिकी के विभिन्न पद्धतियों के सैद्धांतिक एवं प्रायोगिक दोनों ही पहलुओं के महत्व पर जोड़ दिया गया है। यदि छात्र रबर प्रौद्योगिकी पाठ्यक्रम में एक वर्ष के बाद निकलना चाहें तो भी उन्हें रबर प्रौद्योगिकी में एक वर्षीय डिप्लोमा प्रमाणपत्र प्रदान किया जाएगा। जो छात्र इस पाठ्यक्रम में दो वर्ष पूर्ण होने के उपरांत छोड़ेंगे, उन्हें इसके लिए ‘रबर प्रौद्योगिकी में एडवांस डिप्लोमा’ का प्रमाणपत्र प्रदान किया जाएगा। इस पाठ्यक्रम में सफलतापूर्वक तीन वर्ष बीताने के बाद छात्रों को रबर प्रौद्योगिकी में बी. वोक. का प्रमाणपत्र दिया जाएगा जो स्नातक पाठ्यक्रम के समतुल्य है। रबर प्रौद्योगिकी में बी. वोक. पाठ्यक्रम छ: सेमेस्टर का है। प्रत्येक सेमेस्टर में पाठ्यक्रम दो भाग में है जिनके नाम सामान्य शिक्षा तथा दक्षता आधारित शिक्षा हैं।

स्थापना वर्ष:

2015

अध्यक्ष / विभाग के समन्वयक :

प्रो. आर. के. नाथ

संचालित पाठ्यक्रम :

  • रबर प्रौद्योगिकी में बी. वोक. (स्नातक डिग्री पाठ्यक्रम)

प्रवेश क्षमता :

50

 

सेमिनार/संगोष्ठी/कार्यशाला/पुनश्चर्या/अभिमुखीकरण

  • -
  • छात्रों में पॉलिमर विज्ञान तथा रबर प्रौद्योगिकी की समझ पैदा करना ताकि वे इसे व्यावसाय के तौर पर अपना कर रोजगार हासिल कर सकें।
  • छात्रों को रबर उत्पादन एवं निर्माण की पद्धतियों पर प्रशिक्षण प्रदान करना।
  • रबर एवं पॉलिमर उद्योग में प्रवेश हेतु आवश्यक दक्षता संबंधी प्रशिक्षण प्रदान करना।
  • इस व्यवसाय से जुड़े हुए अकादमी, उद्योग तथा संस्थानों से औद्योगिक प्रशिक्षण तथा सांस्थानिक सहयोग (एमओयू) के माध्यम से संपर्क स्थापित करना।

Non Teaching Staffs & Contact Details

PhotoNameDesignationContact Details
© त्रिपुरा विश्वविद्यालय                                                                                                                                                      रूपांकन : वाया विटे सॉल्यूशनस