विभाग
अर्थशास्त्र विभाग

विभाग का संक्षिप्त विवरण :

अर्थशास्त्र विभाग, त्रिपुरा विश्वविद्यालय स्नातक, स्नातकोत्तर और डॉक्टरेट की उपाधि से संबंधित पाठ्यक्रमों का संचालन करता है। शैक्षिक वर्ष 2010-11 में अर्थशास्त्र में ऑनर्स पाठयक्रम की प्रस्तुति के साथ विभाग के शैक्षिक क्रियाकलापों ने विस्तृत रूप धारण किया है। स्नातकोत्तर स्तर पर विभाग निम्नलिखित विशिष्ट पत्रों की सुविधाएं उपलब्ध करता है : ग्राम्य विकास और योजना अर्थशास्त्र, पर्यावरण अर्थशास्त्र, स्वास्थ्य अर्थशास्त्र तथा अर्थमिति और सांख्यिकी। इसका पाठयक्रम भी पूर्वोत्तर क्षेत्र तथा राज्य के क्षेत्रीय और स्थानीय आर्थिक विकास से संबंधित पहलुओं की चर्चाओं में सहयोग करता है। सेमेस्टर पद्धति के अंतर्गत छात्रों के पहले बैच ने जून 2010 में पाठयक्रम पूरा कर लिया है। वर्ष 2008 में आरईटी की शुरुआत हुई तथा कोर्सवर्क आधारित पीएच.डी. में सभी पांच शोधार्थियों ने तत्संबंधित विषयों में सफल रहे हैं। विभाग के संकाय सदस्य केन्द्र तथा राज्य सरकार की परियोजनाओं के मूल्याकंन, निरीक्षण तथा परामर्श संबंधी उत्तरदायित्व का भी निर्वहन करते हैं। त्रिपुरा विश्वविद्यालय एस.एस.ए. के लिए एक निरीक्षण संस्था है तथा कापार्ट के लिए संस्थागत निरीक्षक भी है । इस संबंध में सभी तरह की गतिविधियां विभाग के संकाय सदस्यों द्वारा पूरी की जाती हैं।

स्थापना वर्ष :

1978

विभागाध्यक्ष :

डॉ. जहर देबबर्मा

संचालित पाठयक्रम :

आई.एम.डी., एम.ए, पीएच.डी .

प्रवेश क्षमता :

स्नातक 10, स्नातकोत्तर 25

कुल नेट पात्रता प्राप्त छात्र :

5

कुल पीएच.डी. उपाधि प्रदत्त छात्र :

4

पूर्ण अनुसंधान परियोजना कोष (पूर्ण व कार्याधीन ) :

5 (4पूर्ण,1कार्याधीन)

संचालित विभिन्न कार्यक्रमों के पाठ्यक्रम :

संगोष्ठी / सम्मेलन / कार्यशाला / पुनश्चर्या/ अभिविन्यास आदि आयोजित :

  • यूजीसी कैपेसिटी बिल्डिंग ऑफ वुमैन मैनेजर्स इन हायर एजुकेशन,के अन्तर्गत सेन्सेटिविटी / अवेयरनेस / मोटिवेशन (एसएएम) कार्यशाला 30 मार्च, 2013 से 3 अप्रैल, 2013
  • ‘समाजशास्त्र में शोध प्रविधि’ पर कार्यशाला, 3-9 मार्च, 2013
  • ‘नॉर्थ-इस्ट इंडिया इन ट्रांजिशन : त्रिपुरा – द कॉमर्स एंड कनक्टिविटी कॉरिडोर बिटवीन इंडिया एंड बांग्लादेश’, पर अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी, 26-27 अप्रैल, 2012
  • ‘अपर्चुनिटीज ऑफ ट्रेड एंड डेवलपमेंट इन नॉर्थ-इस्ट इंडिया’, पर राष्ट्रीय संगोष्ठी, 20 मार्च, 2012
  • विश्वविद्यालयीन एवं महाविद्यालयीन शिक्षकों तथा त्रिपुरा के समाजशास्त्र के शोधार्थियों हेतु शोध प्रविधि कार्यशाला, 29 जनवरी- 4 फरवरी, 2012
  • एसपीएसएस पर दो-दिवसीय कार्यशाला, 25-26 मई, 2011
  • प्रो. जलद बरन गांगुली वार्षिक स्मृति व्याख्यान -2011

 

सम्पर्क के लिए पता :

ए और ए अर्थशास्त्र विभाग
त्रिपुरा विश्वविद्यालय
डाकघर – सूर्यमणि नगर
पिन-799022
ई-मेल : This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

प्रयोगशाला सुविधाऍ :

10 कंप्यूटरों के साथ कंप्यूटर प्रयोगशाला

अनुसंधान समूह का विवरण :

---

अतिरिक्त सहयोगी :

  • शिक्षा विभाग, त्रिपुरा सरकार
  • मानव संसाधन और विकास मंत्रालय, भारत सरकार
  • कपार्ट
  • भीभी गिरि राष्ट्रीय श्रम संसाधन, श्रम मंत्रालय.
  • भारत के अन्य विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र विभागों

अन्य जानकारियॉ (यदि कोइ) :

यह निम्नलिखित आचार्य ने पिछले एक वर्ष के दौरान विभाग का दौरा किया

क्रमांक नंनामसंस्थाकार्य का स्वरुप
1 प्रो.पिनाकी चक्रवर्ती वर्धमान विश्वविद्यालय यूजीसी विजिटिंग फेलो
2 प्रो. शीवरंजन मिश्रा विश्वभारती विश्वविद्यालय इंम्पलॉयमेंट पॉलिसी इन जापान : लेसन फॉर इंडिया
3 प्रो. इ.विजस कुमार सिंह मनिपुर विश्वविद्यालय माईग्रेसन डेवलपमेंट इंटरफेस व्याख्यान

गैर-शैक्षिक कर्मचारी एवं संपर्क विवरण :

चित्रनामपदसंपर्क विवरण
श्री ज्योतिष चंद्र भट्टाचार्जी एमटीएस दूरभाष: 9436942859

पीएच.डी. अध्येता :

फोटोनामथिसिस का शीर्षकसंपर्क विवरण
प्रीतम बोस इस्यू ऑफ लेबर इकोनॉमिक्स दूरभाष:+91-9436502922
ई-मेल: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
प्रदीप चौहान द डॉयनामिक्स ऑफ लेबर इन रबर प्लांटेशंस ऑफ त्रिपुरा दूरभाष:+91-9774996036
ई-मेल: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

परियोजना स्कॉलर्स :

फोटोनामविषयसंपर्क विवरण
प्रबीर घोष ग्लोबलाइजेशन एंड इपैक्ट ऑफ डब्ल्यूटीओ ऑन इंडस्ट्रीज ऑफ त्रिपुरा विद स्पेशल रिफ्रेंस टू स्मॉल स्केल सेक्टर दूरभाष:+91-9774447621
ई-मेल: This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.
© त्रिपुरा विश्वविद्यालय                                                                                                                                                      रूपांकन : वाया विटे सॉल्यूशनस